सागर की डॉ. निलय ने दिया 

blog-img

सागर की डॉ. निलय ने दिया 
प्लास्टिक और कागज़ का बेहतर विकल्प 

सागर निवासी डॉ. निलय शर्मा ने जानवरों को खिलाये जाने वाले भूसे से चाय के कप और स्ट्रॉ बनाने का उद्यम शुरू किया है। ये वस्तुएं प्लास्टिक से भी सस्ती हैं और पर्यावरण को नुकसान भी नहीं पहुंचती। ख़ास बात यह कि उपयोग के बाद गाय-भैंस  इन्हें भी खा सकते हैं और खाद के रूप में भी इनका उपयोग किया जा सकता है। 

डॉ. शर्मा ने अपने इस उपक्रम का नाम 'सेव अर्थ' रखा है। वे बताती हैं कि अभी हर महीने हम 40 हज़ार कप उपलब्ध करा रहे हैं। हमारा अनुबंध चाय कंपनियों की फ्रेंचाइजी चलाने वालों से हो गया है। सागर में चाय स्टॉल और नए खुले कैफ़े वाले भी हमारे कप ले रहेहैं। इसके अलावा हम भोपाल, सतना, रीवा, जबलपुर में भी इनकी आपूर्ति कर रहे हैं। सतना में पश्चिम-मध्य रेलवे में जिन्हें चाय का ठेका मिला है, वे भी इन्हीं कपों का प्रयोग कर रहे हैं। अब उज्जैन में भी ऐसा होगा। लेकिन सबसे ज़्यादा मांग और बिक्री इंदौर में है, क्योंकि वहां के लोग स्वच्छता और पर्यावरण को लेकर बेहद सजग हैं। स्ट्रॉ की खपत गर्मियों में 60 हज़ार नग प्रतिमाह रहती है।

भूसा और खाने वाली चीजों के पेस्ट से बनते हैं कप और स्ट्रॉ

स्ट्रॉ और कप बनाने का फॉर्मूला पूछने पर डॉ. शर्मा कहती हैं कि हम इसका खुलासा नहीं कर सकते लेकिन इतना ज़रूर बता सकते हैं कि इसमें भूसे को पीसकर और उसमें खाद्य मिलाकर पेस्ट बनाते हैं, लेकिन कोई केमिकल नहीं मिलाते। जो हम खाते हैं, वही सामग्री मिलाई है। उसी से बाइंडर तैयार किया और उसे मोल्ड किया। इसी तरह कप और स्ट्रॉ बना रहे हैं। इसीलिए भूसे से बना कप चाय पीने के बाद गाय को खिलाया जा सकता है।

मिट्टी,पानी और हवा का संरक्षण

डॉ. शर्मा ने बताया स्टार्टअप में अभी जितने भूसे की ज़रुरत थी, वह आसानी से किसानों से मिल गया। भविष्य में भी हम उनसे भूसा खरीदेंगे तो उन्हें पराली नहीं जलाना पड़ेगी और ज़मीन को नुकसान नहीं होगा। दूसरी तरफ कागज़ के लिए पेड़ों की कटाई कम होगी और प्लास्टिक प्रदूषण भी नहीं होगा। इस तरह हमारा प्रोजेक्ट मिट्टी, पानी और हवा - तीनों के संरक्षण में मददगार साबित होगा।

सन्दर्भ स्रोत : दैनिक भास्कर 

संपादन : मीडियाटिक डेस्क 

 

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सीनियर नेशनल सेलिंग चैम्पियनशिप : भोपाल की
न्यूज़

सीनियर नेशनल सेलिंग चैम्पियनशिप : भोपाल की , विद्यांशी ने स्वर्ण , नेहा ने जीता रजत

अकादमी की दोनों पदक विजेता खिलाड़ी अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक नरेन्द्र राजपूत और सहायक प्रशिक्षक अनिल शर्मा के मार्गदर्शन...

55 की उम्र में भोपाल की
न्यूज़

55 की उम्र में भोपाल की , ज्योति ने फ़तह किया एवरेस्ट

ज्योति का माउंट एवरेस्ट की चोटी फतेह करने का यह दूसरा मौका था। इससे पहले 2023 में भी उन्होंने एवरेस्ट की चोटी तक पहुंचने...

एक माँ जिसने पहले पति, फिर बेटे को
न्यूज़

एक माँ जिसने पहले पति, फिर बेटे को , खोया लेकिन हालात से समझौता नहीं किया 

परवरिश ऐसी की तीन में से दो बेटे शिक्षक बने, दोनों को राष्ट्रपति पुरस्कार मिला 

कयाकिंगः रजनी ने पेरिस पैरालिंपिक के लिए किया क्वालीफाई
न्यूज़

कयाकिंगः रजनी ने पेरिस पैरालिंपिक के लिए किया क्वालीफाई

मप्र की तीसरी खिलाड़ी, जो पेरिस जाएंगी