दहेज़ उत्पीड़न क़ानून

blog-img

दहेज़ उत्पीड़न क़ानून

छाया : हिंदी डॉट लॉरेटो डॉट कॉम

महिलाओं के विरुद्ध हिंसा के पीछे दहेज़ प्रमुख कारणों में से एक है। शारीरिक-मानसिक यातनाओं के अलावा कई बार दुल्हनों की हत्या तक हो जाती है। 2017 के आंकड़ों के अनुसार दहेज़ हत्या के मामले में मध्यप्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है। धारा 498-ए में दहेज़ के कारण पति या उसके रिश्तेदारों के उन सभी बर्तावों को शामिल किया गया है जो किसी महिला को मानसिक या शारीरिक आघात पहुँचाए अथवा उसे आत्महत्या के लिए मजबूर करे. दोषी पाए जाने पर अपराधियों को अधिकतम तीन साल की सजा का प्रावधान किया गया है।

समय के साथ इस कानून में कई उतार चढ़ाव देखने को मिलते हैं. प्रारंभ में किसी महिला द्वारा शिकायत किए जाने पर पति और ससुराल वालों की तुरंत गिरफ्तारी हो जाती थी। परन्तु  वर्ष 2017 के जुलाई में सुप्रीम कोर्ट के दो जजों –जस्टिस आदर्श कुमार गोयल और जस्टिस उमेश ललित ने ऐसे ही एक मामले पर सुनवाई करते हुए गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी और यह आदेश जारी किया कि तुरंत गिरफ्तारी नहीं होगी, बल्कि महिला की शिकायत की पहले पड़ताल होगी कि वह सही है या नहीं। पड़ताल तीन लोगों की नई समिति करेगी जो पुलिस विभाग की नहीं होगी। इस समिति को परिवार कल्याण समिति नाम दिया गया। इस नए प्रावधान के पीछे महिलाओं द्वारा दहेज़ उत्पीड़न क़ानून का गलत फायदा उठाना बताया गया। जबकि इसके विरोध में उतरे महिला अधिकारों के लिए काम करने वाले संगठनों का कहना है कि आज तक ऐसे सुस्पष्ट आंकड़े सामने नहीं आए हैं जो यह बताता हो कि कितने मामलों में 48-ए का दुरुपयोग हुआ।

इसके बाद मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने इस दिशा निर्देश का पुनः परीक्षण करने का निर्णय लिया। पुनः सितम्बर 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने अहम फैसले में यह स्पष्ट कर दिया कि दहेज़ प्रताड़ना के मामलों में पति या ससुराल वालों की गिरफ्तारी में परिवार कल्याण समिति की कोई भूमिका नहीं होगी। हालांकि आरोपियों के पास अग्रिम जमानत का विकल्प खुला है।

संपादन – मीडियाटिक डेस्क

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पॉक्सो एक्ट से बाहर नहीं मुस्लिम शादियां - केरल हाई कोर्ट
विधि एवं न्याय

पॉक्सो एक्ट से बाहर नहीं मुस्लिम शादियां - केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने अपने एक अहम फैसले में कहा है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ के तहत मुस्लिमों के बीच हुई शादी पॉक्सो एक्ट के दायर...

कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशाखा गाइडलाइंस
विधि एवं न्याय

कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशाखा गाइडलाइंस

अगस्त, 1997 में सर्वोच्च न्यायालय के तीन न्यायमूर्तियों की पीठ ने कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न को रोकने के लिए एक...

घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005
विधि एवं न्याय

घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005

वर्ष 2005 में घरेलू हिंसा से महिला संरक्षण अधिनियम – 2005 पारित किया गया। इसमें घरेलू हिंसा को परिभाषित करने एवं उसके प्...

महिलाओं के साथ यौन अपराध के विरुद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धाराएं
विधि एवं न्याय

महिलाओं के साथ यौन अपराध के विरुद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धाराएं

बलात्कार को भारतीय दंड संहिता की धारा  धारा 375,  में बलात्संग के रूप में परिभाषित किया गया है। यह अत्यंत जघन्य अपराध है...

मध्यप्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध
विधि एवं न्याय

मध्यप्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध

राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो की अंतिम 2017 की रिपोर्ट अक्तूबर 2019 में जारी की गई, जिसके अनुसार वर्ष 2017 के आंकड़ों के अनुसार...